सोमवार, 4 जुलाई 2016

फेसबुक

फेसबुक !
     विचारों का अड्डा .
     सन्त , ज्ञानियों का ..
      राजनीती , चमचों का ..
     दुकानदारों का ...
     प्रेम , धोखे का .
    धर्म , कट्टरता का ..
    अड्डा आशिकों का ...
    फ़रेब का , टाइम पास का ..
    कवियों का , लेखकों का ..
     सलाहकारों का ..
    गुंडों , मुस्टंडों का ...
    नक़ाब , असत्य का ..
     झूठ , तारीफों का ..
   ना जाने किस किस का ..?
      अड्डा है भाई ..

धन्य हो जुकरबर्ग...
      यहाँ लोग मुखौटो लिए घूमते हैं ..
       तुम ने एक मुखौटा और दिया ..।
    
माणिक्य बहुगुना / पंकज / चंद्र प्रकाश
  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें